Telangana भारत का एक राज्य-Important information of Telangana state

Important information of Telangana state

Telangana भारत का एक राज्य-Important information of Telangana state

Important information of Telangana state

तेलंगाना भारत का एक राज्य है जो भारत के दक्षिण में स्थित है। तेलुगू भाषा में इसे “తెలంగాణ” लिखा जाता है। यह राज्य भारतीय राज्य आंध्र प्रदेश से अलग होकर 2 जून 2014 को अलग राज्य का दर्जा प्राप्त किया था। तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद है, जो एक महत्वपूर्ण आर्थिक और सांस्कृतिक केंद्र है।

यहां कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां हैं जो तेलंगाना के बारे में हैं:

भूगोल: तेलंगाना का क्षेत्रफल लगभग 1,12,077 वर्ग किलोमीटर है और यह दक्खन पठार के उत्तर में स्थित है। इसका समुद्र तट 193 किलोमीटर लंबा है, बेय ऑफ बंगल के किनारे पर।

भाषा: तेलंगाना में तेलुगू, उर्दू, मराठी और कन्नड़ भाषाएँ बोली जाती हैं।

सरकार: तेलंगाना विधानसभा प्रधान राज्य है और इसकी सरकार विधानसभा चुनाव के माध्यम से चुनी जाती है। तेलंगाना की प्रशासनिक राजधानी हैदराबाद है।

इतिहास: तेलंगाना का इतिहास धन्य और विविध है। यह क्षेत्र प्राचीन समय से ही ऐतिहासिक घटनाओं के साक्षी रहा है। गोलकोंडा किला, चारमिनार, और क़ुतब शाही वंश के उदाहरण हैं जो इस राज्य के ऐतिहासिक महत्व के हैं।

आर्थिक व्यवस्था: तेलंगाना की मुख्य आर्थिक रूप से कृषि और उद्योगिक उद्यम पर निर्भर है। तेलंगाना एक मुख्य धान, कपास, मिर्च, और तोरई उत्पादक है। यहां आईटी और बायोटेक्नोलॉजी भी विकसित है, और हैदराबाद “साइबराबाद” के नाम से प्रसिद्ध है।

संस्कृति: तेलंगाना की संस्कृति धार्मिक और परंपरागत है। यहां बठुकम्मा और बोनालू जैसे त्योहार विशेष रूप से मनाए जाते हैं।

तेलंगाना कला और संस्कृति

Important information of Telangana state

तेलंगाना कला और संस्कृति बहुत ही विविध और रिच है। यहाँ तेलंगाना कला और संस्कृति के कुछ महत्वपूर्ण पहलू हैं:

  1. विशेष नृत्य और संगीत: तेलंगाना में कुछ प्रमुख लोकनृत्य होते हैं जैसे कि “Perini Shivatandavam” और “Bonalu” जो महिलाएं मां शक्ति की पूजा करने के रूप में करती हैं। तेलंगाना में क्लासिकल संगीत का भी एक प्रमुख स्थान है, और यहां के संगीतज्ञों ने बड़े ही प्रसिद्ध कार्य किए हैं।
  2. कला और शिल्पकला: तेलंगाना में कला और शिल्पकला का विकास हुआ है। खोड़ी काला, पोचमपल्ली बोनीस, और धर्मिक चित्रकला में महिलाएं महिरत प्राप्त करने के लिए प्रसिद्ध हैं।
  3. पारंपरिक वस्त्र: तेलंगाना में पारंपरिक वस्त्रों का उत्पादन होता है, जैसे कि “Pochampally Ikat” और “Gadwal Sarees.” ये वस्त्र प्रसिद्ध हैं और उन्हें दुनिया भर में पसंद किया जाता है।
  4. भूत-पूजा और त्योहार: तेलंगाना में भूत-पूजा और दरिद्र नारायण पूजा जैसे परंपरिक धार्मिक और सांस्कृतिक त्योहार मनाए जाते हैं। ये त्योहार समाज में अहम हैं और स्थानीय संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।
  5. शैलीकार भवन: तेलंगाना के प्राचीन शैलीकार भवन (Architectural Marvels) कुछ शानदार निम्नलिखित हैं, जैसे कि गोलकोंडा किला, चारमिनार, और क़ुतब शाही आवास।

तेलंगाना कला और संस्कृति में स्थानीय परंपराओं और विविधताओं का ख्याल रखा जाता है और यह राज्य की अमूल्य धरोहर का हिस्सा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *