Gulam vansh in hindi | गुलाम वंश | Gulam vansh ke shasak

गुलाम वंश-Gulam vansh

गुलाम वंश की स्थापना किसके द्वारा की गयी?gulam vansh ka sansthapak kaun thaकुतुबुद्दीन ऐबक

25 जून, 1206 कुतुबुद्दीन ऐबक का राज्याभिषेक किस स्थान पर किया गया? लाहौर
कुतुबुद्दीन ऐबक ने अपने साम्राज्य की राजधानी किसे घोषित किया? – लाहौर
भारत में तुर्की राज्य का संस्थापक कुतुबुद्दीन ऐबक को माना जाता है। कुतुबुद्दीन ऐबक ने कभी सुल्तान की उपाधि धारण नहीं की इसने केवल मलिक और सिपहसालार का पद धारण किया।
कुतुबुद्दीन ऐबक को उदारता तथा अत्यधिक दान देने के लिए कौन सी उपाधि दी गई?
लाखबख्श
अत्यंत सुरीली आवाज में कुरान पढ़ने के कारण ऐबक को किस उपाधि से नवाजा गया? – कुरान ख्याँ
भारत की प्रथम मस्जिद कुव्वत-उल-इस्लाम की स्थापना किसके द्वारा करवाई गई? – कुतुबुद्दीन ऐबक
कुतुबुद्दीन ऐबक ने सूफी सन्त ख्वाजा कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी के नाम पर कुतुबमीनार का निर्माण प्रारम्भ करवाया।
कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्यु कब हुई ?
वर्ष 1210 में (चौगान खेलते समय घोड़े से गिर जाने के कारण)
कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्यु के पश्चात् उसके पुत्र आरामशाह को अपदस्थ कर गुलाम वंश का अगला शासक कौन बना?
इल्तुतमिश
इल्तुतमिश सुल्तान बनने से पूर्व किस प्रांत का सुबेदार था ?
बदायूँ
• दिल्ली सल्तनत का वास्तविक संस्थापक किसे माना जाता है?
– इल्तुतमिश को
इल्तुतमिश दिल्ली सल्तनत का प्रथम सुल्तान था जिसने दिल्ली को अपनी राजधानी बनाई तथा बगदाद के खलीफा से सुल्तान की उपाधि प्राप्त की।
इल्तुतमिश ने 40 योग्य तुर्क गुलामों को मिलाकर किस दल
का गठन किया?-तुकांन-ए-चहलगानी (चालीसा दल)
मंगोल आक्रमणकारी चंगेज खाँ भारत के उत्तर पश्चिम सीमा पर किसके शासनकाल में आया? – इल्तुतमिश
इल्तुतमिश ने भारत में इक्ता व्यवस्था का प्रारम्भ की। एक अरबी शब्द है, जिसका अर्थ है। भूमि को लेने वाले । इक्ता इक्तादार कहलाते थे।
वर्ष 1236 में दिल्ली सल्तनत की गद्दी पर बैठने वाली प्रथम व अंतिम मुस्लिम महिला शासिका कौन थी?-रजिया सुल्तान
रजिया सुल्तान’ बनने के पश्चात् गुलाम याकूत को किस रजिया के सुल्तान पद पर नियुक्त किया? –अमीर-ए-आखूर
रजिया सुल्तान के विद्रोही अमीरों ने रजिया की हत्या करवाकर किसे दिल्ली सल्तनत की गद्दी पर बैठाया?बहरामशाह
बहरामशाह के कार्यकाल में नायब-ए-मुमालिकत पद का सृजन किया गया, जिसमें सम्पूर्ण अधिकार निहित होते थे। इस पद पर सर्वप्रथम एतगीन को नियुक्त किया गया।
दिल्ली सल्तनत के किस शासक ने बलबन को नायब-ए- मुमालिकत पद पर नियुक्त किया? – नासिरुद्दीन महमूद
बलबन को उलूग खाँ की उपाधि किसने प्रदान की थी ? – नासिरुद्दीन महमूद ने
दिल्ली का सुल्तान बनने के पश्चात् तुर्कान-ए-चहलगानी को किसने समाप्त कर दिया? बलबन ने
अपने विरोधियों के प्रति कठोर, लौह एवं रक्त की नीति का – पालन करने वाला सुल्तान कौन था ? बलबन
बलबन प्रथम सुल्तान था, जिसने राजत्व के सिद्धान्त का । प्रतिपादन किया। उसने राजत्व को नियाबते-खुदाई (ईश्वर द्वारा प्रदत्त) तथा राजा को जिल्ले-इलाही (ईश्वर की छाया) कहा।
सिजदा एवं पैबोस प्रथा को अपने दरबार में प्रारम्भ करने वाला
सुल्तान कौन था? – बलबन
बलबन ने किस नाम से एक सैन्य विभाग की स्थापना थी की अर्ज- बलबन
गुलाम वंश का अन्तिम शासक कौन था?gulam vansh ka antim shasakशम्सुद्दीन क्यूमर्स

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *