Rajasthan GK ll हुणों का आक्रमण ll gk in hindi

Rajasthan GK ll हुणों का आक्रमण ll India GK ll rajasthan gk question answers 

हुणों का आक्रमण

rajasthan gk

नमस्कार दोस्तों में आपके इस पोस्ट में  rajasthan gk in hindi लेके आया हु जो आपके लिए rajasthan में होने वाली कोई से भी एग्जाम में ये बहुत लाभदायक है इस पोस्ट में rajasthan gk questions in hindi ,rajasthan gk questions and answers  ये सभी इस पोस्ट में लाया हु जो आपके लिए बहुत लाभ दायक है | ये rajasthan history , rajasthan geography और rajasthan polity  से संभावित प्रशन  जो rajasthan gk in hindi  के  होंगे | 

Rajasthan GK ll हुणों का आक्रमण ll India GK ll rajasthan gk question answers 

गुप्त सम्राज्य के पतन के बाद एक केन्द्रीय शक्ति के अभाव में राजस्थान के गणराज्य— आभीर, नाग, मालव, यौधेय आदि -आपस में लड़कर कमजोर पड़ गए। रही-सही कसर हुणों के आक्रमण ने पूरी कर दी। हुणों ने राजस्थान के गणराज्य व्यवस्था को हमेशा के लिए समाप्त कर दिया। हुण शासक तोरमाण ने 503 ई. में राजस्थान पर आधिपत्य जमा लिया। उसके उत्तराधिकारी मिहिरकुल का भी राजस्थान के कई भागों पर अपना अधिकार बना रहा। शैव मतावलंबी मिहिरकुल ने उदयपुर के बाडौली नामक स्थान पर एक शिव मंदिर बनवाया। चीनी यात्री ह्वेनत्सांग के अनुसार, शैव मतावलंबी मिहिरकुल बौद्ध धर्म का भयानक संपीडक था। वह अत्यंत क्रूर व रक्तपिपासु था। उसने विराटनगर के बौद्ध विहारों तथा गंगानगर क्षेत्र के रंगमहल, बड़ोपल आदि स्थानों पर विनाश किया ।

गुप्तों के पतन और हुणों द्वारा अराजकता पैदा करने की स्थिति से लाभ उठाकर मंदसौर के यशोधर्मन ने 532 ई. के आस-पास मिहिरकुल को पराजित कर हुणों का अंतिम रूप से भारत में उन्मूलन किया। यशोधर्मन ने राजस्थान में अपने अधिकारी अभयदत्त, जिसका पद ‘राजस्थानीय’ था, को प्रशासनिक व्यवस्था करने के लिए नियुक्त किया। यशोधर्मन के शासन-काल में राजस्थान की समृद्धि और आर्थिक स्थिति में वृद्धि हुई। लेकिन यशोधर्मन के मरणोपरांत राजस्थान में पुनः अराजकता फैल गई। राजस्थान में एक तरफ यशोधर्मन के अधिकारी, जो ‘राजस्थानीय कहलाते थे, अपने-अपने क्षेत्र में स्वतंत्र होने की चेष्टा करने लगे, तो दूसरी तरफ प्राचीन गणराज्य शक्ति जुटाने लगे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *