General knowledge questions and answers || राजस्थान के प्रमुख मन्दिर ||

राजस्थान के प्रमुख मन्दिर 🔰

general knowledge questions and answers

general knowledge questions and answers

मन्दिर का नाम                    स्थान

अम्बिका माता मन्दिर — जगत

धुनीनाथ मन्दिर — बीकानेर

आँसिया के मन्दिर — आँसिया (जोधपुर)

धूलेश्वर मन्दिर — आबू

अर्बूदा देवी मन्दिर — आबू

अद्भुतनाथ मन्दिर — चित्तौड़गढ़ का किला

ब्रह्मा मन्दिर — पुष्कर (अजमेर)

भन्डसर मन्दिर (जैन मन्दिर) — बीकानेर

बदोली मन्दिर — मेवाड़

अचलेश्वर महादेव मन्दिर — अचलगढ़ दिलवाड़ा (आबू)

चिन्तामणि मन्दिर — बीकानेर

चामुण्डा देवी मन्दिर — जोधपुर किला (जोधपुर)

दिगम्बर जैन मन्दिर — अलवर

घाटेश्वर मन्दिर — बरोली (कोटा)

द्वारिकानाथ मन्दिर — कंकरोली

गोविन्ददेव जी का मन्दिर —जयपुर

दिलवाड़ा जैन मन्दिर —आबू

गौमुख मन्दिर — आबू

जगदीश मन्दिर — उदयपुर

गणेश मन्दिर — जयपुर

कुम्भा श्याम मन्दिर — चित्तौड़गढ़ का किला (चित्तौड़गढ़)

हर मन्दिर — बीकानेर (जूनागढ़ किले में )

हनुमान मन्दिर — गलताजी (जयपुर)

कर्णीमाता मन्दिर — देशनोक (बीकानेर)

जैमल मन्दिर — बीकानेर (जूनागढ़ किले में)

कपार्दा के मन्दिर — रनकपुर (जोधपुर)

जम्बु मार्गेश्वर मन्दिर — बून्दी

लक्ष्मीनारायण मन्दिर — बीकानेर

काली मन्दिर — चित्तौड़गढ़ का किला (चित्तौड़गढ़)

काली माता मन्दिर — भरतपुर

मीरा मन्दिर — चित्तौड़गढ़ का किला

कुंज बिहारी मन्दिर — जोधपुर किला

नीलकंठ महादेव मन्दिर — चित्तौड़गढ़ का किला

काली का मन्दिर — आमेर (जयपुर)

कान्तीनाथ जैन मन्दिर — अचलगढ़ (आबू)

रनकपुर जैन मन्दिर — रनकपुर

लक्ष्मीनाथ जी मन्दिर — जैसलमेर

लोदरवा जैन मन्दिर — लोदरवा (जैसलमेर)

सोनी मन्दिर (जैन मन्दिर) — अजमेर

महावीर जी मन्दिर — श्री महावीर जी

महामंगलेश्वर मन्दिर — बून्दी (बून्दी-चित्तौड़गढ़ मार्ग पर)

सूर्य मन्दिर — जयपुर

नीलकंठ महादेव मन्दिर — अलवार

नीलकंठ महादेव मन्दिर — कोटा

विमल शाही मन्दिर (जैन मन्दिर) — आबू

रक्तदन्तिका मन्दिर — सतूर (बूंदी)

सूर्य मन्दिर — चित्तौड़गढ़ का किला

समिदेश्वर मन्दिर — चित्तौड़गढ़ का किला

सन्चौर मन्दिर — जालौर

सावित्री मन्दिर — पुष्कर (अजमेर)

सम्भावनाथ मन्दिर (जैन मन्दिर) — जैसलमेर

श्री रघुनाथ जी मन्दिर — नक्की झील (आबू)

सास-बहू का मन्दिर — उदयपुर

श्रीनाथ जी — नाथद्वार

विष्णु मन्दिर — केशोरायपाटन (बूंदी)

शिव देवरा मन्दिर —रामगढ़ (कोटा)

शीतलेश्वर मन्दिर — झालरपाटन (कोटा)

तेजपाल मन्दिर (जैन मन्दिर) —आबू

वरूण मन्दिर — बूंदी

सिंधी जी के जैन मन्दिर — साँगानेर (जयपुर)


राजस्थान के प्रमुख व्यक्तियों के उपनाम 🔰
➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖

▪️डिंगल का हैरॉस : पृथ्वीराज राठौड़

▪️राजस्थान का कबीर : दादूदयाल

▪️भारत की मोनालिसा : बनी ठनी

▪️राजस्थान की जलपरी : रीमा दत्ता

▪️पत्रकारिता का भीष्म पितामह : पं. झाब्बरमल शर्मा

▪️राजस्थान की राधा : मीराबाई

▪️राजपूताने का अबुल फजल : मुहणौत नैणसी

▪️मरू कोकिला : गवरी देवी

▪️हल्दीघाटी का शेर : महाराणा प्रताप

▪️मेवाड़ का उद्धारक : राणा हम्मीर

▪️आधुनिक राजस्थान का निर्माता : मोहन लाल सुखाड़िया

▪️वागड़ का गांधी : भोगीलाल पंड्या

▪️मारवाड़ का प्रताप : राव चंद्रसेन

▪️मेवाड़ का भीष्म पितामह : राणा चूड़ा

▪️कलीयुग का कर्ण : राव लूणकरण

▪️गाँधीजी का पाँचवाँ पुत्र : जमना लाल बजाज

▪️राजस्थान का लौहपुरुष : दामोदर व्यास

▪️राजस्थान का आदिवासियों का मसीहा : मोतीलाल तेजावत

▪️आधुनिक भारत का भागीरथ : महाराजा गंगा सिंह

▪️गरीब नवाज : ख्वाजा मोइनुद्धीन चिश्ती

▪️राजस्थान का नृसिंह : संत दुर्लभ जी

▪️राजस्थान में किसान आंदोलन के जनक : विजय सिंह पथिक

▪️राजस्थान का लोक नायक : जयनारायण व्यास

▪️शेर-ए-राजस्थान : जयनारायण व्यास

▪️दा साहब : हरिभाऊ उपाध्याय

▪️राजस्थान का गाँधी : गोकुल भाई भट्ट


सामन्तों की श्रेणियाँ

 

▪️मारवाड़ में चार प्रकार की श्रेणियाँ थी – राजवी, सरदार, गनायत ओर मुत्सद्दी।

 

▪ राजवी राजा के तीन पीढियों तक के निकट सम्बन्धी होते थे, उन्हें रेख, हुक्मनामा कर और चाकरी से मुक्त रखा जाता था।

 

▪ मेवाड़ में सामन्तों की तीन श्रेणियाँ होती थी जिन्हे उमराव कहा जाता था, प्रथम श्रेणी के सामन्त सोलह, दूसरी श्रेणी में बत्तीस और तृतीय श्रेणी के सामन्त गोल के उमराव कई सौ की संख्या में होते थे

 

▪ प्रथम श्रेणी के 16 उमरावो में सलूम्बर के सामन्त का विशेष स्थान होता था, महाराजा की अनुपस्थिति में नगर का शासन-प्रशासन और सुरक्षा का उत्तरदायित्व उसी पर होता था।

 

▪ जयपुर राज्य में महाराजा पृथ्वीसिंह के समय सामन्तों की श्रेणियों का विभाजन किया, यह उनके 12 पुत्रो के नाम से स्थाई जागीरे चली, जिन्हे कोटडी कहा जाता था।

 


राजस्थान के प्रमुख जलप्रपात🔰

▪️भील बेरी जलप्रपात-बांडी के उद्गम स्थल के पास- फुलाद व जोजावर के बीच(पाली)

▪️चूलिया -चंबल नदी- चित्तौड़गढ़

▪️मेनाल -मेनाल नदी- भीलवाड़ा

▪️भीमलत -मांगली नदी -बूंदी

▪️दिर- मुकुंद नदी- भरतपुर

▪️दमोह जलप्रपात -बाड़ी,धौलपुर

▪️अरणा- झरना- शुष्क क जलप्रपात ,जोधपुर

▪️बेरी गंगा झरना- मंडोर, जोधपुर


विभिन्न रियासतों में प्रचलित सिक्के🔰

▪️विजयशाही, भीमशाही  –  जोधपुर

▪️गजशाही  –  बीकानेर

▪️गुमानशाही  –  कोटा

▪️ झाड़शाही  –  जयपुर

▪️उदयशाही  –  डूॅंगरपुर

▪️ मदनशाही  –  झालावाड़

▪️ स्वरूपशाही, चाॅंदोड़ी  –  मेवाड़

▪️ तमंचाशाही – धौलपुर

▪️रावशाही  –  अलवर

▪️ रामशाही  –  बूॅंदी

▪️अखैशाही  –  जैसलमेर

▪️सालिमशाही  –  बाॅंसवाड़ा


▪️मामा भान्जा का मन्दिर- अटरु ,बारा

▪️मामा भान्जा कि मजार -पल्लू ,हनुमानगढ

▪️मामा भान्जा कि छतरी -मेहरानगढ ,जोधपुर

▪️मामा भान्जा का नाम -धन्ना गहलोत व भिया चौहान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *